MLC चुनाव के लिए दो सीटों पर सपा का दांव, अहमद हसन-राजेंद्र चौधरी को बनाया प्रत्याशी

सीटों के लिहाज से सपा के खाते में एक सीट आराम से आ जाएगी, लेकिन दूसरी सीट के लिए उसे मशक्कत करनी पड़ सकती है. #UttarPradeshMLCElection #SP #BSP

           

https://www.facebook.com/aajtak/posts/10161246043012580

#एक_कड़वी_सच्चाई : जिसे कभी भूलना नहीं चाहिए ?

• पीटर इंग्लैंड नाम से इंग्लैंड का ब्रांड लगता हैं ?
लेकिन यह बिरला का ब्रांड है !
परंतु अब उसके भी कपड़े बांग्लादेश में बनते हैं !

दरअसल आज जो फ़ैशन #अम्बानी और #अडानी को गाली देने का हैं ! दरअसल इसे फैशन के बजाय #साजिश कहते हैं

" वह पहले #टाटा और #बिड़ला को गालियां देने और प्रदर्शनों द्वारा उनकी संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने का होता था !

किसी भी #पीटर_इंग्लैंड के शोरूम में जाकर कपड़े के पीछे टैग पर "#मेड_इन_बांग्लादेश" लिखा देख लीजिए
पहले यह भारत में ही कपास खरीद कर भारत में ही कपड़े बनाते थे !
फिर वामपंथ ने अपना काम चालू किया.

लोगो को भड़काया और लोग भी अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मरते हुए टाटा-बिड़ला को कोसने लगे
इन धूर्तों ने टाटा-बिरला के नाम पर आंदोलन शुरू किए,
काम से ज्यादा फैक्ट्री में हड़ताल होने लगी !
तंग आकर बिड़ला ने पीटर इंग्लैंड का सारा कारोबार बांग्लादेश में सेट कर दिया !
वहां रोज़गार उत्पन्न हुआ.

बिड़ला बांग्लादेशियों के लिए भगवान् बन गया, बिड़ला का धंदा तो बंद नहीं हुआ लेकिन जो लोग वामपंथियों के पीछे लगे वो जरूर बेरोज़गार हो गए !
इन धूर्त वामपंथियों के कारण लाखों लोगों की नौकरी गयी थी,
अगर भारत में कारोबार होता तो यह लाखों नौकरी भारतीय कर रहे होते !
और भारतीय किसानों से कपास भी लेना चालु रखते.

लेकिन वो तो उद्योगपति हैं,
इस देश में नहीं तो किसी दूसरे देश में उद्योग चला लेंगे
धंदा बंद थोड़ी न करते.
फिर सोचो क्या बिड़ला का कोई नुकसान हुआ?
जवाब हैं नहीं!
उसके पेंट-कमीज आज वही लोग खरीद रहे हैं, जिनके बाप-दादा टाटा-बिड़ला के विरुद्ध आंदोलन करते थे !
उनको गालियां देते थे !

जो हाल कभी बिहार-बंगाल में हुआ था !
आज वही पंजाब-हरियाणा में हो रहा है !
बस #टाटा_बिरला की जगह #अंबानी_अडानी ने ले ली है !वामपंथी भी वही हैं !
उनकी धूर्तता भी वही है !
अंबानी-अडानी का कुछ नही बिगड़ेगा नुकसान पंजाब-हरियाणा के लोगों का ही होना है !
बल्कि पूरे भारत देश का होना है ?

15 साल पहले इन वामपंथियों ने गुजरात में उद्योग-धंधों के खिलाफ ऐसा ही षड्यंत्र रचा था ?
परंतु मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह ने इनकी एक नहीं चलने दी !
उसके बाद गृह मंत्री अमित शाह पर कहीं झूठे केस लगा कर उन्हें अपने करीबी जजों द्वारा तड़ीपार करवा दिया था ?
इस कुकर में कांग्रेस भी बराबर की भागीदार है ?
कांग्रेस की तरफ से
100नीya , चिदंबरम , अहमद पटेल कमलनाथ दिग्विजय सिंह और सुशील कुमार शिंदे जैसे दिग्गज नेताओं का हाथ माना जाता है ?

वामपंथी तो पंजाब-हरियाणा को बर्बाद करने के बाद कही और निकल लेंगे ?
जैसे बंगाल और बिहार से निकले थे !
शायद अम्बानी-अडानी में से भी कोई दूसरे देश में अपना उद्योग शिफ्ट कर दे !
लेकिन अगर इतिहास से कुछ नहीं सीखोगे तो -
" जो हालात आज बंगाल और बिहार के हैं !
वो पंजाब के होने में ज्यादा समय नहीं लगेगा‌ ?

" मुझे आज तक समझ नहीं आता कि -
इस देश की समझदार जनता के होते हुए यह मुट्ठी भर वामपंथी इतने बड़े षड्यंत्र में जनता को कैसे शामिल कर लेते हैं और फिर देश की जनता वामपंथियों के इशारों पर नाचने लगती है ?

~ जब देश की जनता को इस फरेब का पता चलता है !
" तब तक बहुत देर हो चुकी होती।

" दोस्तों : वामपंथियों की हर चार साजिश के खिलाफ देश की जनता को जागृत कर सबसे बड़ा देश हित का कार्य ?

" अगर सोशल मीडिया पर आपकी किसी पोस्ट पर वामपंथी कीड़े अभद्र कमेंट करें तब भी
आप उनकी सच्चाई बताने में घबराए नहीं !

* बस कुछ सालों की बात है !
इन वामपंथी कीड़ों का इलाज धीरे-धीरे हो रहा है ?


+