दिल्ली हिंसा में रतन, राहुल, फुरकान, नाजिम, शाहिद की मौत, भड़काने वाले नेताओं पर खरोंच तक नहीं

हिंसा की आग में आम लोग जल रहे हैं. घरों में डर के माहौल में रहने को मजबूर हैं.

           

https://www.facebook.com/aajtak/posts/10159420497312580

कपिल मिश्रा जैसे लोग सिर्फ मोहरा है।
ये सारा गेम RRS का डिजाइन किया हुआ है।
कपिल मिश्रा हो वारिस पठान हो या इनके आका इस तरह के लोग को भड़काने के लिए ऐसी सजा मिलनी चाहिए कि इस तरह के भरकाउ बयान देने से पहले सौ बार सोचे । मेरा सभी भाईयो से हाथ जोड़कर आग्रह है कि इस तरह के कट्टरपंथी लोगो के बयानो को नजरअंदाज करे। एक दूसरे का जानी दुश्मन न बने अन्यथा आप सब के बच्चे ही अनाथ होंगे।
कोई नेता आपके परिवार का भरण-पोषण नही करेगा। इन नेताओ को तो फिकर व गम है कुर्सी जाने की कुर्सी पर बने रहने की। आप सब
कभी देखे या सुने हो कि दंगा मे कोई नेता मरा है या उनके घर दुकाने जले है।
ऐसे दंगे से नेताओ को ही चाँदी चांदी होता है।
हे ईश्वर ईन दंगाई नेताओ तथा कट्टरपंथी से बचाना हमारे देश को। भगवान् सबको सद्भावना व सद्बुद्धि प्रदान करे।
जय हिन्द


+