अमेरिकी कंपनी ने चीन पर ठोका 20 ट्रिलियन डॉलर का मुकदमा, जानबूझकर कोरोना वायरस फैलाने का आरोप

चीन पर लगाया अमेरिकी नागरिकों को मारने और बीमार करने की साजिश रचने का आरोप

           

https://www.facebook.com/aajtak/posts/10159585310492580

यह अंतरराष्ट्रीय ट्रेड वार चाईना खेल रहा है ।कोई भी वायरस लांच करने से पहले अपने देश में टेस्ट कर रहा है इसका भी काट रखे हुए है यह ट्रेड वॉर है जिसमे जैविक हथियार का इस्ते माल कर रहा है उसके मित्र देश रूस , कोरिया, म्यांमार नेपाल , पर उतना प्रभाव क्यों नहीं पड़ा ।अमेरिका और यूरोप इसका टारगेट है ।अपनी अर्थव्यवस्था मजबूत करने के लिए यह खेल खेला और सफल रहा यूरोप औए अमेरिका का शेयर बाजार औंधे मुंह गिर गए जबकि चाईना का बजबूत हो गया । बहुत पहले से तैयारी था। कॅरोना के पहले 10000 बेड तैयार कर चुका था , वुहान को इसलिए टारगेट किया क्योंकि वहां विदेशी और बुजुर्ग लोग ज्यादा संख्या में है । बीजिंग और शंघाई में असर क्यों नही हुआ। चाईना का गेम है । एक तीर से कई निशाना लगाया ।


चीन ने सभी वर्ल्ड साथ बड़ा धोखा किया व आज भी करता है 2002-2003 में सार्स वायरस पता चला उस समय 800 से ज्यादा लोगों की जान गई थी। अभी वर्ल्ड में फैलें रहे कोरोना वाइरस की जानकारी सबसे पहले दिसंबर 2019 में चीन के एक डॉक्टर ली वेनलियांग पता चली तो चीन सरकार को दी जब चीन सरकार ने बताया यह अफवाह है तब डॉक्टर ली ने बताया कि समय रहते हुवे इसे रोक सकते है तब चीन सरकार उसपर केस करने की धमकी दी तब डॉक्टर ली ने फिर अपनी परवाह न करते हुवे दिसम्बर माह में ही सोशल मीडिया पर डॉक्टरों के एक ग्रुप में दी तो चीन सरकार व पुलिस ने डॉ ली पर आरोप लगाया गया कि अफवाह फैला रहे है आपराधिक आरोप तय किये जाने की धमकी दी। बीते महीने में डॉ ला की मौत हो चुकी है जँहा वुहान शहर के अस्पताल में कोरोना को रोकने के लिये काम करते उसी अस्पताल में उनकी मौत हुई।यदि चीन सरकार डॉ ली बात मानकर उनका साथ दे देती कोरोना पूरे वर्ल्ड में नहीं फैलता व डॉ ली कि मौत नहीं होती।जनवरी 2020 से लेकर आज तक हजारों से ज्यादा जान जा चुकी है अब कोरोना पूरे वर्ल्ड में फैल चुका है अब चीन सरकार डॉ ला के परिजनों से माफी मांग रही है। चीन सरकार अभी भी वर्ल्ड मीडिया में कोरोना वायरस की बीमारी व मौत का आंकड़ा छुपा रही है। सभी वर्ल्ड सरकारों के राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री को एक निर्णय लेकर चीन देश को अलग थलग कर देना चाहिये कोई भी देश इस चीन देश के साथ काम नही करने का प्रस्ताव पास करें।


+