ईरान ने इजरायल को बताया ट्यूमर, कहा- इस वायरस को करना होगा खत्म

ईरान ने इज़रायल के खिलाफ दिया ये बयान!

           

https://www.facebook.com/aajtak/posts/10160001498712580

ईरान के बुरे दिन तो 1977 के ईस्लामिक क्रांति से ही शुरू हो गए थे। उसके पहले ईरान मे शाह रजा पहलवी का शासन था और वह खुला समाज का देश था। लड़कियाँ पुरे आजादी के साथ आधुनिक कपड़ों मे बाजार माल , विश्वविद्यालय परिसर में घूमती थी और किसी तरह की कोई पाबंदी नहीं थी। आर्थिक रूप से ईरान एक बहुत ही खुशहाल देश था। और इस क्रांति के बाद से यह देश बर्बाद हो गया है। धार्मिक कट्टरता इसे अभी और नीचे गिरायेगी। पाकिस्तान हमेशा बीच बीच मे लतियाते रहता है पर फिर भी धार्मिक आधार पर भारत के खिलाफ पाकिस्तान का समर्थन करता है हमेशा।
इजराइल से न तो इसकी सीमा मिलती है न कोई और कारण दुश्मनी का है पर सिर्फ़ धार्मिक आधार पर यह इजरायल से घृणा करता है और दुश्मनी रखता है। वैसे इजरायल से इसकी सीधे लड़ने की न औकात है न होगी। यह सिर्फ सीरिया और वहाँ के आतंकवादी समूहों की मदद करता है। अगर हिम्मत है तो एकबार सीधा इजरायल पर हमला कर देख ले नतीजा।
भगवान उनको सदबुद्धि दे जिससे उनका देश भी तरक्की करे।


+